क्या होती है पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी, जाने इसके बारे में सबकुछ

Share

Know all about Power of Attorney in Hindi

power of attorney in hindi

loading...

क्या होती है पॉवर ऑफ़ अटॉर्नी, जाने इसके बारे में सबकुछ | Know all about Power of Attorney in Hindi : आपने कभी ना कभी और कहीं ना कहीं पावर ऑफ अटॉर्नी के बारे में जरूर सुना होगा और आपके मन में इससे जुड़े कई सवाल भी आए होंगे जैसे; क्या होती है पावर ऑफ़ अटॉर्नी, कितने तरह की होती है पावर ऑफ अटॉर्नी, कौन कर सकता है पावर ऑफ अटॉर्नी, और कैसे होती है पावर ऑफ अटॉर्नी.

आज हम आपको इससे जुड़े हर सवाल का जवाब देने जा रहे हैं और यकीनन इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपके दिमाग में एक भी सवाल बाकी नहीं रहेगा. आइए जानते हैं पावर ऑफ अटॉर्नी से जुड़े हर सवाल एवं उनके जवाब

 

#1. क्या है पावर ऑफ अटॉर्नी

पावर ऑफ अटॉर्नी एक ऐसा लिखित दस्तावेज होता है जिसे बनाने वाला व्यक्ति ‘प्रिंसिपल’ कहलाया जाता है और जिसके लिए बनाई जाती है वह व्यक्ति ‘एजेंट’ कहलाया जाता है और इनके बीच के रिलेशन को ‘एजेंसी’ कहते हैं. यानी कि पावर ऑफ अटॉर्नी में प्रिंसिपल एजेंट को अपने कुछ काम या सभी काम करने के अधिकार देता है.

इस मामले में विशेष बात यह है कि पावर ऑफ अटॉर्नी होने के बाद एक एजेंट वह सब कार्य उसी प्रकार कर सकता है जो प्रिंसिपल कर सकता है.

 

#2. पावर ऑफ अटॉर्नी कितने प्रकार की होती है

पावर ऑफ अटॉर्नी दो प्रकार की होती है, जिसमें पहली “पावर ऑफ अटॉर्नी जनरल” और दूसरी “पावर ऑफ अटॉर्नी स्पेशल” बनायीं जाती है. इसमें ‘पावर ऑफ अटॉर्नी जनरल’ के अनुसार एक एजेंट प्रिंसिपल के लगभग सभी कार्य करने के लिए कानूनी रुप से अधिग्रहित होता है. जब की ‘पावर ऑफ अटॉर्नी स्पेशल’ के अनुसार एजेंट प्रिंसिपल का कोई विशेष काम करने के लिए ही अधिकृत होता है.

 

#3. पावर ऑफ अटॉर्नी किन-किन कामों के लिए बनवाई जाती है

‘पावर ऑफ अटॉर्नी’ कॉन्ट्रैक्ट करने के लिए, अनुबंध करने के लिए, चल-अचल प्रॉपर्टी से जुड़े कामों के लिए, इनकम टेक्स रिटर्न के लिए तथा अन्य व्यक्तियों से व्यवहार करने के लिए भी बनवाई जाती है.

 

#4. पावर ऑफ अटॉर्नी किस के हित में बनवाई जाए

पावर ऑफ अटॉर्नी एक बहुत ही महत्वपूर्ण सरकारी दस्तावेज होता है, इसलिए पावर ऑफ अटॉर्नी के तहत एजेंट नियुक्त करने से पहले बहुत ही ज्यादा सावधानी बरती जानी चाहिए. क्योंकि पावर ऑफ अटॉर्नी बनने के बाद एजेंट जो भी कार्य करेगा उसके लिए प्रिंसिपल पूरी तरह से उत्तरदाई और बाध्य होगा. इसलिए एजेंट हमेशा एक ऐसे व्यक्ति को ही नियुक्त करना चाहिए जो पूरी तरह से विश्वास पात्र होने के साथ-साथ हमारे कार्यों को अच्छी तरह से करने में भी सक्षम हो.

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

loading...

Comments

Comments Below

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close