सफलता के लिए पूजा करते समय रखे इस बातो का ध्यान

Share

Pooja Karte Samay Rakhe in Baato ka Dhyaan

Pooja Karte Samay Rakhe in Baato ka Dhyaan

loading...

पूजा करने के नियम | Pooja Karne Ke Niyam : पूजा तो सब करते हैं परन्तु यदि इन नियमों को ध्यान में रखा जाये तो उसी पूजा पथ का हम अत्यधिक फल प्राप्त कर सकते हैं | यह नियम कुछ इस प्रकार हैं :

 

नियम 1  
“सूर्य, गणेश,दुर्गा,शिव एवं विष्णु ये पांच देव कहलाते हैं. इनकी पूजा सभी कार्यों में गृहस्थ आश्रम में नित्य होनी चाहिए. इससे धन,लक्ष्मी और सुख प्राप्त होता है.”

 

नियम 2
“गणेश जी और भैरवजी को तुलसी नहीं चढ़ानी चाहिए |”

 

नियम 3
“दुर्गा जी को दूर्वा नहीं चढ़ानी चाहिए”

 

नियम 4 
“सूर्य देव को शंख के जल से अर्घ्य नहीं देना चाहिए.”

 

नियम 5
“तुलसी का पत्ता बिना स्नान किये नहीं तोडना चाहिए. जो लोग बिना स्नान किये तोड़ते हैं,उनके तुलसी पत्रों को भगवान स्वीकार नहीं करते हैं.”

 

नियम 6
“रविवार,एकादशी,द्वादशी ,संक्रान्ति तथा संध्या काल में तुलसी नहीं तोड़नी चाहिए|”

 

नियम 7
“दूर्वा( एक प्रकार की घास) रविवार को नहीं तोड़नी चाहिए|”

 

नियम 8
“केतकी का फूल शंकर जी को नहीं चढ़ाना चाहिए |”

 

नियम 9
“कमल का फूल पाँच रात्रि तक उसमें जल छिड़क कर चढ़ा सकते हैं |”

 

नियम 10
“बिल्व पत्र दस रात्रि तक जल छिड़क कर चढ़ा सकते हैं |”

इसे भी पढ़ें : हनुमान चालीसा हिंदी अनुवाद सहित

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

loading...

Comments

Comments Below

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close