स्वर्णरेखा नदी में से निकलता है सोना, आज तक नहीं पता चला रहस्य

Share

River of Gold : Swarnrekha River Mystery, Hindi

river of gold swarnrekha river

loading...

River of Gold: Swarnrekha River Mystery in Hindi :एक ऐसी नदी जिसमे से निकलता है सोना (Gold), क्या है इस सोने की नदी (Golden River) का रहस्य, कहाँ से आता हैं इस स्वर्ण नदी में सोना. इन्ही सब सवालों के जवाब जानने के लिए पढ़े आज की हमारी यह पोस्ट:

भले ही देश में सोना 25 से 30 हजार रपये प्रति दस ग्राम बिक रहा है लेकिन एक स्थान ऐसा भी है जहां आदिवासी सोने के कण एकत्र करते हैं और उसे वहां के स्थानीय व्यापारी मिट्टी के दामों में खरीद लेते हैं।

हम मजाक नहीं कर रहे ये हकीकत है…दरअसल झारखंड के छोटा नागपुर क्षेत्र में आदिवासी लोगों का एक स्थान है रत्नगर्भा। इस क्षेत्र में स्वर्ण रेखा नदी बहती है जिसका विशेष महत्व है। यहां के आदिवासी इसे नंदा भी कहते हैं।

 

आजतक रेत में सोने के कण मिलने की सही वजह का पता नहीं लग पाया है।

किसी नदी के बारे में ये बात सुनने में थोड़ी अजीब जरूर लगती है, लेकिन इस नदी की रेत से सदियों से सोना निकाला जा रहा है। भूवैज्ञानिकों का मानना है कि नदी कई चट्टानों से होकर गुजरती है। इसी दौरान घर्षण की वजह से सोने के कण इसमें घुल जाते हैं।

 

यह नदी झारखंड, पश्चिम बंगाल और ओडिशा के कुछ इलाकों में बहती है।

नदी का नाम स्वर्ण रेखा है। कहीं-कही इसे सुबर्ण रेखा के नाम से भी पुकारते हैं। नदी का उद्गम रांची से करीब 16 किमी दूर है और इसकी कुल लंबाई 474 किमी है।

river of gold swarnrekha river

सोने के कणों के लिये विख्यात होने के कारण इस नदी का नाम स्वर्ण रेखा नदी पडा है।

हैरतअंगेज बात यह है कि स्वर्ण रेखा नदी में जो सोने के कण मिल रहे हैं उसके बारे में राज्य और केन्द्र सरकार दोनों ने ही निगाहें फेरी हुई है। कोई भी सरकारी मशीनरी यह मालूम नहीं कर सकी कि इस नदी के रेत में पानी के साथ मिलकर बहने वाले सोने के कण कहां से निकलना प्रारंभ होते हैं।

 

आज तक यह रहस्य सुलझ नहीं पाया कि इन दोनों नदियों में आखिर कहां से सोने का कण आता है।

दरअसल स्वर्ण रेखा और उसकी एक सहायक नदी ‘करकरी’ की रेत में सोने के कण पाए जाते हैं। कुछ लोगों का कहना है कि स्वर्ण रेखा में सोने का कण, करकरी नदी से ही बहकर पहुंचता है। वैसे बता दें कि करकरी नदी की लंबाई केवल 37 किमी है। यह एक छोटी नदी है।

 

river of gold swarnrekha river

इस काम में कई परिवारों की पीढ़ियां लगी हुई हैं।

झारखंड में तमाड़ और सारंडा जैसी जगहों पर नदी के पानी में स्थानीय आदिवासी, रेत को छानकर सोने के कण इकट्ठा करने का काम करते हैं। यहां के आदिवासी परिवारों के कई सदस्य, पानी में रेत छानकर दिनभर सोने के कण निकालने का काम करते हैं। आमतौर पर एक व्यक्ति, दिनभर काम करने के बाद सोने के एक या दो कण निकाल पाता है।

 

एक व्यक्ति माह भर में 60-80 सोने के कण निकाल पाता है।

हालांकि कभी-कभी यह संख्या 30 से कम भी हो सकती है। ये कण चावल के दाने या उससे थोड़े बड़े होते हैं। रेत से सोने के कण छानने का काम सालभर होता है। सिर्फ बाढ़ के दौरान दो माह तक काम बंद हो जाता है।

river of gold swarnrekha river

रेत से सोना निकालने वालों को एक कण के बदले 80-100 रुपए मिलते हैं।

एक आदमी सोने के कण बेचकर महीने भर में 5 से 8 हजार रुपए कमा लेता है। हालांकि बाजार में इस एक कण की कीमत करीब 500 रुपए या उससे ज्यादा है। स्थानीय दलाल और सुनार, सोना निकालने वाले लोगों से ये कण खरीदते हैं। कहते हैं कि यहां के आदिवासी परिवारों से सोने के कण खरीदने वाले दलाल और सुनार इस कारोबार से करोड़पति बन गए है।

 

इस नदी के आसपास के क्षेत्रों में पायी जाने वाली लाल मोंरंग मिट्टी में भी सोने के कण पाये जाते हैं।

चट्टानों और पत्थरों के बीच पायी जाने वाली मोरंग मिट्टी को खोदकर आदिवासी अपने घर ले जाते हैं। उस मिट्टी को बडे बर्तनों में घोलकर उसे बारीक कपडों में छाना जाता है फिर विशेष प्रक्रिया द्वारा मिट्टी से सोने के बारीक कण अलग कर लिये जाते है।

इन्हें भी पढ़े:

आखिर क्या है पुराणों में वर्णित पाताल लोक का रहस्य

यह है मौत का शहर, यहाँ जाने वाला कभी लौट कर वापिस नहीं आता

कौन होते है कापालिक साधू जो खाते पीते है इंसानी खोपड़ी में

गढ़ पहरा किला: जहाँ आज भी भटकती है नट नटनी की आत्मा

अपने आप खिसकते है यह पत्थर, कोई नहीं जान पाया इसका राज

दुनियाँ का सबसे डरावना भुतिया आइलैंड, जहाँ हर तरफ है मौत

6 पौराणिक मणियाँ जो क्षणभर में बदले देती है किस्मत

इस रहस्यमयी कुँए में से अपनेआप आती है रौशनी

जरूर जाने, रहस्यमयी काले जादू से जुड़े हैरान कर देने वाले राज

एक ऐसा रहस्यमयी गाँव जिसकी आधी आबादी करती भूतो से बात

जानियें कौन से है यह 10 लाभदायक चमत्कारिक पौधे

यह हजारो वर्ष पुरानी ममीया जिनका राज जान ना पाया कोई

 

लेटेस्ट अपडेट व लगातार नयी जानकारियों के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करे, आपका एक-एक लाइक व शेयर हमारे लिए बहुमूल्य है | अगर आपके पास इससे जुडी और कोई जानकारी है तो हमे publish.gyanpanti@gmail.com पर मेल कर सकते है |
Thanks!
(All image procured by Google images)

loading...

Comments

Comments Below

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close