सम्मोहन सीखे : दर्पण त्राटक से पशु, पक्षियों तक को सम्मोहित करे

Share

Learn Mirror Hypnotism in Hindi

darpan tratak

loading...

GyanPanti.com पर आप पढ़ रहे हैं, आओ सम्मोहन सीखे : दर्पण त्राटक से कर सकते है पशु, पक्षियों तक को सम्मोहित :

त्राटक के विभिन्न प्रकार में ‘प्रतिबिंब त्राटक’ बहुत ही विशेष वह अनोखा माना जाता है तथा इस त्राटक का अभ्यास करने में साधक को भी बहुत आनंद प्राप्त होता है | इस प्रतिबिंब त्राटक के माध्यम से हम ना केवल दूसरों को सम्मोहित करने में सफल होते हैं अपितु हम पशु पक्षियों तक को सम्मोहित कर सकते हैं, ऐसा इस क्षेत्र के विद्वानों का पूर्ण विश्वास एवं कथन है |

आइए जानते हैं चमत्कारिक एवं श्रेष्ठ “प्रतिबिंब त्राटक” के बारे में; प्रतिबिंब त्राटक एक दर्पण के माध्यम से होता है जिसके लिए एक 8 इंच लंबा तथा 6 इंच चौड़ा एक शीशा दीवार पर इस प्रकार से टांग देना चाहिए कि उसमें हमारा प्रतिबिंब स्पष्ट दिखाई दें तथा हमारी आंखें और प्रतिबिंब की आंखें समान ऊंचाई पर रहे |

ऐसा करने के बाद करीब 3 से 4 फीट की दूरी पर आसन लगा कर बैठ जाए और दर्पण में अपनी आंखों या अपनी भोहों के बीच में दृष्टि को जमाने का अभ्यास करना चाहिए लेकिन एक बात का साधक को विशेष ख्याल रखना चाहिए कि इस त्राटक को करते समय कमरे में जरूरत से ज्यादा प्रकाश नहीं होना चाहिए | इस त्राटक का अभ्यास कम रोशनी में किया जाए तो बेहतर होता है |

जब हम अपने ही प्रतिबिंब पर त्राटक करते हैं तो धीरे-धीरे हमें प्रतिबिंब दिखाई देना बंद हो जाता है और केवल दर्पण ही दिखाई देता है | कुछ समय के बाद हमें पुनः प्रतिबिंब दिखाई देता है और कभी-कभी तो ऐसा होता है कि हमारा पूरा चेहरा गायब हो जाता है तथा केवल आंखें ही चमकती है | जब आपको इस प्रकार के अनुभव होने लगे तो उस समय बहुत धीमी गति से सांस लेनी चाहिए क्योंकि सांस लेने की गति जितनी कम होगी हमारी परछाई उतनी ही जल्दी अदृश्य हो पाएगी |

इस प्रकार से करीब 1 महीने का अभ्यास आवश्यक है और जब कुछ समय के पश्चात साधक को प्रतिबिंब त्राटक करते समय विभिन्न प्रकार के दृश्य दिखाई देने लगे तब साधक को समझना चाहिए कि वह एकदम सही रास्ते पर चल रहा है | यह दृश्य भयानक भी हो सकते हैं तथा दिव्य भी हो सकते हैं, लेकिन साधक को नियमित रूप से अपना अभ्यास करते रहना चाहिए |

यह साधना बहुत ही श्रेष्ठ और चमत्कारिक मानी गई है| परंतु इस बात का ध्यान रखा जाए कि आप जो दर्पण इस साधना के लिए प्रयोग कर रहे हैं उस दर्पण को अन्य कामों के लिए बिल्कुल भी इस्तेमाल ना करें और जब आपके त्राटक का अभ्यास समाप्त हो जाए तब इस दर्पण को किसी कोमल तथा मोटे मलमल के कपड़े में लपेटकर एक तरफ रख दें |

इस साधना के प्रभाव से आंखों में एक चमक और तेज आता है, जिसके कारण ना केवल व्यक्ति सम्मोहित होता है बल्कि इससे पशु-पक्षी तक भी सम्मोहित होने की अवस्था में आ जाते हैं | इस प्रकार का अभ्यास होने पर यदि आप किसी भी व्यक्ति को उसकी आंखों में आंखें डालकर आज्ञा देंगे तो वह अवश्य ही आपकी आज्ञा का पालन करेगा तथा आप उसे नम्रतापूर्वक जो बात कहेंगे वह उसे स्वीकार भी करेगा |

इस त्राटक की विशेषता यह भी है कि यह ना केवल जीवित प्राणियों पर असर करता है बल्कि यह जड़ पदार्थ जैसे रुमाल, कुर्सी, अंगूठी पर भी असर करता है | अगर आप किसी अंगूठी पर भावना देते हैं कि यह अंगूठी जो भी देखेगा वह मेरे वह मेरी बातों को अवश्य मानेगा और जब आप इस अंगूठी को लेकर किसी व्यक्ति विशेष के सामने जाते हैं और उसके सामने यह अंगूठी इस प्रकार से उपयोग में लाते हैं कि वह इस अंगूठी को देख ले, तब आप हैरान हो जाएंगे कि वह आपकी बात अवश्य ही मान लेता है |

इस प्रकार यह प्रतिबिंब त्राटक बहुत ही चमत्कारी और श्रेष्ठ त्राटक माना जाता है, लेकिन इस प्रकार के सम्मोहन में इस बात का ध्यान रखें कि पदार्थों पर सम्मोहन का असर केवल 3 महीने तक ही रहता है और अगर उस वस्तु पर पानी गिर जाता है अथवा वस्तु को पानी से धो देते हैं तो वह अपना असर खो देगी |

इस साधना की एक और विशेषता यह है कि इसे कालजयी साधना भी कहते हैं क्योंकि इस साधना में कितना समय बीत जाता है इस बात का पता ही नहीं लगता | ऐसा भी हो सकता है कि आप को त्राटक का अभ्यास करते हुए 3 घंटे हो जाए और आपको ऐसा लग रहा हो कि मानो अभी 10 मिनट ही हुए हैं |

पाठको यह त्राटक श्रेष्ठ त्राटक माना जाता है और जो भी व्यक्ति सम्मोहन के क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहता है, उसे इस त्राटक का अभ्यास अवश्य ही करना चाहिए | आप अपने विचार कमेंट के माध्यम से व्यक्त कर सकते हैं तथा अपने सुझाव भी दे सकते हैं, धन्यवाद् |

 

 

लेटेस्ट अपडेट व लगातार नयी जानकारियों के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करे, आपका एक-एक लाइक व शेयर हमारे लिए बहुमूल्य है | अगर आपके पास इससे जुडी और कोई जानकारी है तो हमे publish.gyanpanti@gmail.com पर मेल कर सकते है |
Thanks!
(All image procured by Google images)

loading...

Comments

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close