भारतीय युद्धपोत आईएनएस विक्रमादित्य के रोचक तथ्य

[nextpage title=”1″ ]

Indian Warship INS Vikramaditya Facts, Hindi

INS Vikramaditya facts hindi 532

आई एन एस विक्रमादित्य के आश्चर्यजनक तथ्य | INS Vikramaditya Facts in Hindi :

आई एन एस विक्रमादित्य (INS Vikramaditya) पूर्व सोवियत विमान वाहक एडमिरल गोर्शकोव का नया नाम है, जो भारत द्वारा हासिल किया गया है। पहले अनुमान था कि 2012 में इसे भारत को सौंप दिया जाएगा, किंतु काफी विलंब के पश्चात् 16 नवम्बर 2013 को इसे भारतीय नौसेना में सेवा के लिए शामिल कर लिया गया।

विक्रमादित्य (INS Vikramaditya) यूक्रेन के माइकोलैव ब्लैक ‍सी शिपयार्ड में 1978-1982 में निर्मित कीव श्रेणी के विमान वाहक पोत का एक रूपांतरण है। रूस के अर्खान्गेल्स्क ओब्लास्ट के सेवेरॉद्विनस्क के सेवमाश शिपयार्ड में इस जहाज की बड़े स्तर पर मरम्मत की गई। यह पोत भारत के एकमात्र सेवारत विमान वाहक पोत आई एन एस विराट का स्थान लेगा। इस पोत को नया रूप देने में भारत को 2.3 अरब डॉलर खर्च करने पड़े हैं।

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

[/nextpage][nextpage title=”2″ ]

Indian Warship INS Vikramaditya Facts, Hindi

INS Vikramaditya facts hindi 532

Vikramaditya Fact 1. “विक्रमादित्य” एक संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है “सूर्य की तरह प्रतापी” और भारतीय इतिहास के कुछ प्रसिद्ध राजाओं का भी नाम है, जैसे कि उज्जैन के विक्रमादित्य, जिन्हें एक महान शासक और शक्तिशाली योद्धा के रूप में जाना जाता है। यह उपाधि का प्रयोग भारतीय राजा चंद्रगुप्त द्वितीय द्वारा भी किया जाता था जिनका शासन-काल 375-413/15 ई.सं. के बीच रहा |

 

Vikramaditya Fact 2. आईएनएस विक्रमादित्य (INS Vikramaditya) कीव श्रेणी का विमानवाही पोत है जिसे वर्ष 1987 में बाकू नाम से रूसी नौसेना में शामिल किया गया था |

 

Vikramaditya Fact 3. आईएनएस विक्रमादित्य (INS Vikramaditya) का पुराना नाम ‘एडमिरल गोर्शकोव’ था |

 

Vikramaditya Fact 4. आईएनएस विक्रमादित्य 8 हजार टन से अधिक भार ढोने और 7 हजार समुद्री मील या 13 हजार किलोमीटर तक अपनी गतिविधियां चलाने में सक्षम है |

 

Vikramaditya Fact 5. इस पर मिग-29के नौसेना लड़ाकू विमान के साथ ही कामोव 31 और कामोव 28 पनडुब्बी रोधी और समुद्री निगरानी हेलीकॉप्टर तैनात रहने हैं |

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

[/nextpage][nextpage title=”3″ ]

Indian Warship INS Vikramaditya Facts, Hindi

INS Vikramaditya facts hindi 532

Vikramaditya Fact 6. 2.3 अरब डॉलर की लागत वाले आईएनएस विक्रमादित्य का वजन 44500 टन है |

 

Vikramaditya Fact 7. इस युद्धपोत की लंबाई 284 मीटर है. जो तीन फुटबॉल मैदानों के बराबर है |

 

Vikramaditya Fact 8. यह युद्धपोत 60 मीटर ऊंचा है जो लगभग 20 मंजिला इमारत के बराबर है. इसमें 22 छतें हैं |

 

Vikramaditya Fact 9. इस पर 1600 नौसैनिक तैनात होने हैं.

 

Vikramaditya Fact 10. विक्रमादित्य एक बार में 45 दिन तक समंदर में रह सकता है, लेकिन अगर इसे समंदर के बीच टैंकर से ईंधन दिया जाता रहे तो ये जबतक चाहे तबतक समंदर में तैरता रहा सकता है। अपनी इसी विशालता और ताकतवर प्रणाली की वजह से आईएनएस विक्रमादित्य नौसेना के लिए सबसे खास है-और दुश्मन के लिए बुरा ख्वाब है।

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

[/nextpage][nextpage title=”4″ ]

Indian Warship INS Vikramaditya Facts, Hindi

INS Vikramaditya facts hindi 532

Vikramaditya Fact 11. विक्रमादित्य 45300 टन भार वाला, 284 मीटर लम्बा और 60 मीटर ऊँचा युद्धपोत है।

 

Vikramaditya Fact 12. तुलनातमक तरीके से कहा जाए तो यह लंबाई लगभग तीन फुटबॉल मैदानों के बराबर तथा ऊंचाई लगभग 22 मंजिली इमारत के बराबर है।

 

Vikramaditya Fact 13. इस पर मिग-29-के लड़ाकू विमान, कामोव-31, कामोव-28, सीकिंग, एएलएच ध्रुव और चेतक हेलिकॉप्टरों सहित तीस विमान तैनात और एंटी मिसाइल प्रणालियां तैनात होंगी |

 

Vikramaditya Fact 14. इसके एक हजार किलोमीटर के दायरे में लड़ाकू विमान और युद्धपोत नहीं फटक सकते।

 

Vikramaditya Fact 15. 1600 नौसैनिकों के क्रू मेंबर्स के लिए 18 मेगावॉट जेनरेटर से बिजली तथा ऑस्मोसिस प्लांट से 400 टन पीने का पानी उपलब्ध होगा।

 

Vikramaditya Fact 16. इन नौसैनिकों के लिए हर महीने एक लाख अंडे, 20 हजार लीटर दूध, 16 टन चावल आदि की सप्लाई की जरूरत होगी।

 

Vikramaditya Fact 17. हालांकि जहाज का आधिकारिक जीवन काल 20 वर्ष अपेक्षित है, लेकिन विशेषज्ञों का मानना है कि नियुक्ति के समय से इसका जीवन काल वास्तव में कम से कम 30 वर्ष हो सकता है। आधुनिकीकरण के पूरा हो जाने पर जहाज और उसके उपकरण का 70 प्रतिशत नया होगा |

 

 

लेटेस्ट अपडेट व लगातार नयी जानकारियों के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करे, आपका एक-एक लाइक व शेयर हमारे लिए बहुमूल्य है | अगर आपके पास इससे जुडी और कोई जानकारी है तो हमे publish.gyanpanti@gmil.com पर मेल कर सकते है |
Thanks!
(All image procured by Google images)

[/nextpage]

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *