ट्रम्प ने तो कर दिखाया लेकिन हम कब आतंक के खिलाफ खड़े होंगे

Share

India’s War Against Terrorism, Hindi

fight against terror

loading...

अमेरिकी चुनावों में ट्रंप के भाषण को देख कर लोगों को लग रहा था कि यह सिर्फ एक चुनावी जुमला है लेकिन अपने सारे विरोधी और वामपंथी मीडिया के प्रचार को झुठलाते हुए ट्रंप ने अमरीका में अपना विजयी झंडा गाड़ दिया | अमेरिका में ट्रंप सरकार के आते ही एक विशेष विचारधारा की मीडिया ने यह खबर फैलाने शुरू करी पर दुनिया के ऊपर एक युद्ध का साया मंडरा रहा है और ट्रम्प पूरी दुनिया के लिए खतरा हो सकता है लेकिन ट्रंप ने अपने पहले भाषण में ही मीडिया को उसकी औकात दिखानी शुरू कर दी और “अमेरिका फर्स्ट” का नारा दे दिया |

जो लोग ट्रंप के मानसिक स्तर पर सवाल उठा रहे हैं उन्हें कम से कम इतना पता होना चाहिए कि यह व्यक्ति एक अरबपति कारोबारी है और जाहिर सी बात है कि सनकी व्यक्ति इस तरह के कारोबार खड़े नहीं कर सकते | ट्रंप ने जब चुनाव लड़ा तब वह केवल अमेरिका की ही बात कर रहे थे और अमेरिका में बढ़ते या यूं कहें कि पूरी दुनिया में बढ़ते मुस्लिम आतंकवाद के खिलाफ वह खुला हल्ला बोल कर रहे थे और जैसी उम्मीद थी कि राष्ट्रपति बनते ही सबसे बड़ा फैसला आ गया और दुनिया भर के 7 देशों को अमेरिका ने वीजा देने पर बैन लगा दिया तथा आने वाले अगले 90 दिनों तक यह बैन जारी रहेगा उसके बाद इसकी समीक्षा की जाएगी |

जिन देशों पर बैन लगाया गया है उनमें इरान, इराक, लीबिया, सोमालिया, सूडान, सीरिया और यमन शामिल है | जाहिर सी बात है कि दुनिया को केवल एक विचारधारा में झोक देने वाली मीडिया ट्रंप के इस फैसले के खिलाफ एकजुट हो गई और प्रोटेस्ट भी करने लगी है और कुछ लोग भी तो विरोध में उतर आये हैं तथा अमेरिका में भी इसके विरोध की घटनाएं हो रही है | लगे हाथों इरान जो अमेरिका और इजराइल को शुरू से ही अपना दुश्मन मानता आ रहा है उसने भी जवाब दिया कि इस बात का करारा जवाब दिया जाएगा |

मीडिया में इसे मुस्लिम देशों की बेइज्जती करार दी जा रही है जबकि अमेरिकी प्रशासन के अनुसार यह बयान उन देशों में लगाया गया है जिसमें सबसे ज्यादा आतंकवाद ने अपने पांव पसार रखे हैं और इनमें से कुछ देशों पर आतंकवाद की फंडिंग करने का भी आरोप है |

लेकिन आज शुक्रवार को एक नई खबर आई और यह खबर है कि कुवैत ने भी अपने यहां 5 देशों पर वीजा बैन लगा दिया गया है और इन पांच देशों में शामिल हैं इरान, इराक, सीरिया, अफगानिस्तान और पाकिस्तान | यानी कि इनमें से तीन देश पहले से ही अमेरिकी बैन का सामना कर रहे हैं और कुवैत ने यह भी बताया है कि यह आदेश उसने इन देशों में बढ़ रहे कट्टरपंथ तथा अपने यहां इन देशों के कट्टरपंथी नागरिकों के प्रवेश पर बैन लगाने के लिए यह किया गया है |

अब कल तक जो लोग ट्रंप का एकतरफा खुला विरोध कर रहे थे या ट्रम्प को मुस्लिम विरोधी बनाकर मीडिया जगत में जिस तरह से प्रचारित कर रहे थे वह आज बगले झांक रहे हैं और बचाव के नए नए हथियार खोज रहे हैं क्योंकि कुवैत खुद एक कट्टरपंथी इस्लामिक देश है | तो जाहिर सी बात है कि केवल मुस्लिम बैन या कुछ देशों पर बैन ही मुद्दा नहीं है बल्कि हकीकत में बात कही ज्यादा गहरी है, जिसे यह सड़ता हुआ मीडिया दुनिया को बताने से बच रहा है लेकिन सबसे ज्यादा इसमें जो थूथू हुई है, वह हुई है पाकिस्तान की |

पाकिस्तान जो अपने को सबसे बड़ा मुस्लिम हितेषी देश बताना नहीं चुकता था, कुवैत के बैन के बाद वह भी बगले झाँक रहा है और इस बैन लेकर भारत की दोगली सेकुलर मीडिया भी चुप है | जाहिर सी बात है कि जिस पाकिस्तान के बारे में बताने से यहां की मीडिया डरती है उस पाकिस्तान के बारे में अमेरिका और कुवैत हमसे ज्यादा बेहतर जानते हैं तथा वह यह भी जानते हैं कि पाकिस्तान एक आतंकवाद की मंडी बन चुका है जहां से कुछ आ सकता है तो वह केवल आतंकवाद |

यह एक सबक हम भारतीयों के लिए भी हैं की ट्रंप ने तो अमेरिका फर्स्ट की नीति चला दी और कुवैत ने भी आतंकवाद को रोकने के लिए कड़े कदम उठाने शुरू कर दिए लेकिन हम भारतीय क्या कर रहे हैं | जिस भारत देश के धार्मिक कारणों के आधार पर पहले दो टुकड़े हो चुके हैं और अब भी वह आतंकवाद को झेलता आ रहा है तथा जिसके कश्मीर में लाखो लोग बेघर हो चुके हैं | ऐसा देश कट्टरपंथी आतंकवाद से निपटने के लिए हम क्या योजनाएं बना रहा हैं ?

जाहिर सी बात है कि हम एक आत्मघाती रास्ते पर चल रहे हैं जहां पर केवल विनाश के सिवा कुछ नहीं | जिस देश में सरेआम सर काटने के फतवे जारी हो रहे है और मीडिया रूम में कैमरे के सामने सर काटने, हत्या करने की बात की जा रही है, जहाँ केवल वोट बैंक के लिए लाखों बांग्लादेशियों और रोहिंग्या मुस्लिमों की एंट्री करा दी जाती है, उस देश भविष्य कैसा है तथा किस और जा रहा है यह देख कर ही दिल कांप उठता है और यह कहीं ना कहीं हमारी उस आदत को भी दर्शाता है जो कहती है कि तुम एक नंबर के लापरवाह हो और तुम वह लोग हो जो इतिहास से कुछ नहीं सीखते |

फिलहाल हम यही उम्मीद करते हैं कि आने वाले दिनों में भारत आतंकवाद और धार्मिक कट्टरपंथ के विरुद्ध कड़े कदम उठाएगा और इस लड़ाई में हम दुनिया के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़े होंगे |

 

 

लेटेस्ट अपडेट व लगातार नयी जानकारियों के लिए हमारा फेसबुक पेज लाइक करे, आपका एक-एक लाइक व शेयर हमारे लिए बहुमूल्य है | अगर आपके पास इससे जुडी और कोई जानकारी है तो हमे publish.gyanpanti@gmil.com पर मेल कर सकते है |
Thanks!
(All image procured by Google images)

loading...

Comments

Comments Below

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close