एतिहासिक लोंगेवाला युद्ध – जहाँ 90 सैनिको ने चटाई 2000 पाकिस्तानियों को हार

Share

Great Longewala War – India Pak War 1971 History

loading...

क्या आप जानते हाँ इसिहास की सबसे बड़ी लड़ियों के बारे में? दुनियां की सबसे प्रसिद्ध लड़ाइयाँ कौन सी हैं? ऐसी कौन से यौद्धा हैं जहां पर मुट्ठी भर सिपाहियों ने अपने से कई गुना ताकतवर सेना को हरा दिया? अगर आप सोचते है की दुनियां की सबसे खतरनाक लड़ाइयाँ कौन सी है तो आपका जवाब है हमारे पास और आपको अपने प्रश्नों का जवाब मिलेगा हमारी आज की इस पोस्ट में :

आतंकवाद की सबसे ज्यादा मार झेलने वाले देशों में छठे पायदान पर भारत का नाम आता है। पठानकोट में एयरबेस पर हुए आत्मघाती आतंकी हमले ने पाकिस्तान के कंलकित आतंकी इतिहास में एक पन्ना और जोड़ दिया है। लेकिन जब जब पाकिस्तान भारत से टकराया है हमेशा उसे मुंह की ही खानी पड़ी। 1971 में भी ऐसी ही घटना घटी जब सिर्फ 90 भारतीय सैनिकों ने हज़ारों पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ दिया। जानिए क्या हुआ था 1971 में :

Great Longewala War – India Pak War 1971 History :

 

1. पाक ने लोंगेवाला चेकपोस्ट पर किया अटैक

1a Indo par longewala war 746

1971 में ये दिन भारत-पाक में छिड़ी पूरी जंग का आखिरी दिन था। 4 दिसंबर की रात को भारत पाकिस्तान के रहीमयार खान डिस्ट्रिक्ट क्वार्टर पर अटैक करने वाला था। किन्हीं वजहों से भारत अटैक नहीं कर पाया, पर बीपी 638 पिलर की तरफ से आगे बढ़ते हुए पाकिस्तान ने भारत की लोंगेवाला चेकपोस्ट पर अटैक कर दिया। यहां से उनका जैसलमेर जाने का प्लान था।

 

2. जंग की कहानी

2b Indo par longewala war 746

उस वक्त लोंगेवाला चेकपोस्ट सिर्फ 90 जवानों की निगरानी में थी। कंपनी के 29 जवान और लेफ्टिनेंट धर्मवीर इंटरनेशनल बॉर्डर की पैट्रोलिंग पर थे। देर शाम उन्हें जानकारी मिली कि दुश्मन के बहुत सारे टैंक एक पूरी ब्रिगेड के साथ लोंगेवाला पोस्ट की तरफ बढ़ रहे हैं। उस ब्रिगेड में 2 हजार से ज्यादा जवान रहे होंगे। कुछ ही पलों बाद लश्कर का सामना भारत की सेना की छोटी सी टुकड़ी के साथ करना था। न जमीनी न हवाई किसी तरह की मदद उस दौरान मिलना संभव नहीं था।

 

3. पाकिस्तान के 2000 हज़ार सैनिकों ने किया हमला

3c Indo par longewala war 746

भारतीय सेना के जवान मुंहतोड़ जवाब के लिए तैयारी में लग गए। कुछ ही देर बाद पाकिस्तानी टैंकों ने गोले बरसाते हुए भारतीय पोस्ट को घेर लिया। वे आगे बढ़ते जा रहे थे और उनके पीछे पाकिस्तानी सेना। भारतीय सेना ने जीप पर लगी रिकॉयललैस राइफल और 81एमएम मोर्टार से जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी। शुरुआती कार्रवाई इतनी दमदार थी कि पाकिस्तानी सेना ने कुछ दूरी पर रुककर जंग लड़ने का फैसला किया। पाकिस्तानी हज़ार से ज्यादा थे और भारतीय 100 से भी कम। वो रात इम्तिहान की रात थी। शैलिंग के थमते कुछ सुनाई दे रहा था तो गूंज रहे शब्द ‘जो बोले सो निहाल सत श्री अकाल।’

 

4. पाक की योजना थी जैसलमेर पर कब्जा

4d Indo par longewala war 746

पाकिस्तानी सेना के इरादे के मुताबिक वह चेकपोस्ट पर कब्जा कर रामगढ़ से होते हुए जैसलमेर तक जाना चाहते थे। पर भारतीय सेना के इरादे भी फौलादी थे, जो दीवार बन कर उनके समाने खड़े थे। रात होते होते अब तक भारत की छोटी सी टुकड़ी ने दुश्मन के 12 टैंक तबाह कर दिए थे। रातभर गोलीबारी जारी ही थी कि इंडियन एयरफोर्स से मदद मिल गई। दो हंटर विमानों ने पाकिस्तानियों के परखच्चे उड़ा दिए। वे बौखलाए टैंक लेकर इधर-उधर दौड़ने लगे। सुबह के बाद तक हम पाकिस्तानी सेना को उन्हीं की हद में 8 किलोमीटर अंदर तक खदेड़ चुके थे।

 

5. सड़क से पहुंचे थे जहाज

5e Indo par longewala war 746

जैसलमेर एयरबेस पर उस वक्त सिर्फ 4 हंटर एयरक्राफ्ट और सेना के ऑब्जर्वेशन पोस्ट के दो विमान थे। हंटर एयरक्राफ्ट रात के अंधेरे में हमला नहीं कर सकते थे। अब इंतजार सुबह का था। अल सुबह ही 2 हंटर विमान लोंगेवाला की तरफ निकल पड़े। उस वक्त रोशनी इतनी कम थी कि आसमान की ऊंचाई से जमीं का अंदाजा लगा पाना मुश्किल था। तब न तो नेविगेशन सिस्टम इतना मॉडर्न था और न ही कोई लैंडमार्किंग थी।ऐसे में दोनों विमान जैसलमेर से लोंगेवाला तक जाने वाली सड़क के रास्ते को देखते हुए आगे बढ़े थे और धूल के गुबार में छिपे पाकिस्तानी टैंकों को निशाना बनाया था।

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

इन्हें भी पढ़े :

देखे! भारतीय नौसेना के विध्वंसक युद्धपोत और पनडुब्बिया

ये थी वो 6 बड़ी गलतियां जो कर सकती थी पूरी दुनिया बर्बाद

loading...

Comments

Comments Below

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close