अवश्य जानियें, चमत्कारी गायत्री मंत्र का रहस्य एवं अर्थ

Share

Gayatri Mantra Myster and Meaning, Hindi

gayatri mantra mystery and meaning779_res

loading...

क्या हैं गायत्री मंत्र, गायत्री मन्त्र के क्या लाभ हैं तथा जाने गायत्री मंत्र के रहस्य और अर्थ हमारी आज की इस पोस्ट में :

सनातन धर्म में गायत्री मंत्र का बहुत महत्व है। हर बालक, युवा और वृद्ध रोज गायत्री मंत्र का पाठ करता है। हमारे विद्यालयों और भवनो में भी प्रार्थना में गायत्री मंत्र शामिल होता है। यह एक बहुत दिव्य मंत्र है जिसका उल्लेख हमें वेदों औऱ पुराणों और सभी ग्रंथों में मिलता है। गायत्री मंत्र की महिमा अनमोल है, महापुरूषों ने गायत्री मंत्र का प्रतिदिन उच्चारण बहुत अच्छा बताया है। 24 अक्षरों का मंत्र सनातन धर्म में बहुत ही दिव्य है।

वेद माता गायत्री का यह मंत्र बहुत ही कल्याणकारी है, इसके उच्चारण मात्र से ही हमारे मन में प्रसन्नता का भाव उभरने लगता है। आईये जानते हैं कि यह गायत्री मंत्र क्या है।

 

ॐ भूर्भव: स्व: तत्स वितुर्वरेण्यं भर्गोदेवस्य धीमहि धियो योन: प्रचोदयात् ।।

वेदमाता गायत्री आदिशक्ति है। ज्ञान शक्ति रूप माता गायत्री का स्मरण सांसारिक जीवन की हर परेशानियों से बाहर आने और मनोरथ पूरे करने के लक्ष्य से बहुत अहमियत है। यही कारण है कि गायत्री के ध्यान और उपासना के लिए गायत्री मंत्र का जप बहुत ही असरदार माना गया है।

 

कब और कैसे गायत्री मंत्र बोलना होता है असरदार?

मंत्र, श्लोक या स्त्रोत के जप का शुभ फल तभी संभव है, जब उनके लिए नियत समय, नियम और मर्यादा का पालन किया जाए। गायत्री मंत्र जप के लिए भी ऐसा ही नियत वक्त और नियम शास्त्रों में बताए गए हैं। जानिए, गायत्री मंत्र का जप कब से कब तक करना चाहिए –

• यथासंभव गायत्री मंत्र का जप किसी नदी या तीर्थ के किनारे, घर के बाहर एकान्त जगह या शांत वन में बहुत प्रभावी होता है।

• गायत्री मंत्र जप और संध्या का महत्व सूर्योदय से पहले है। इसलिए सूर्य उदय होने से पहले उठकर जब तक आसमान में तारे दिखाई दे, संध्याकर्म के साथ गायत्री मंत्र का जप करें।

• इसी तरह शाम के समय सूर्य अस्त होने से पहले संध्या कर्म और गायत्री मंत्र का जप शुरू करें और तारे दिखाई देने तक करें।

• धार्मिक दृष्टि से सुबह के समय खड़े होकर किया गया संध्याकर्म और गायत्री जप रात के पाप और दोषों को दूर करते हैं।

• वहीं शाम को बैठकर किया गया संध्या कर्म और गायत्री जप दिन में हुए दोष और पाप नष्ट करते हैं।

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

loading...

Comments

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं.
इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close