क्या होता है अधिकमास अथवा पुरषोत्तम मास

Share

Adhik Maas and Purshottam Maas

 

loading...

क्या होता है अधिकमास अथवा पुरषोत्तम मास | Adhik Maas and Purshottam Maas in hindi :

 

Adhik Maas and Purshottam Maas in hindi, क्या होता है अधिकमास अथवा पुरषोत्तम मास

जिस चन्द्रमास में सूर्य की संक्रान्ति नही होती है वह मास अधिकमास कहलाता है। दूसरे अर्थ में यदि चन्द्रमास के दोनों ही पक्षों में सूर्य किसी भी राशि में प्रवेश नहीं करता यानि संक्रमण नहीं करता है। तब वह संक्रमण रहित मास वर्ष की मास गणना में अधिक हो जाता है। लोकभाषा में इसे अधिकमास, मलमास या पुरूषोत्तम कहा जाता है। इस वर्ष अधिक मास कल से प्रारंभ हो रहा है।

इस मास में केवल ईश्वर के निमित्त व्रत, दान,  हवन, पूजा, ध्यान आदि करने का विधान है। ऐसा करने से पापों से मुक्ति मिलती है और पुण्य प्राप्त होता है।

भागवत पुराण के अनुसार इस मास किए गए सभी शुभ कार्यों का फल प्राप्त होता है। इस माह में भागवत कथा श्रवण, राधा कृष्ण की पूजा और तीर्थ स्थलों पर स्नान और दान का महत्व है।

loading...

Comments

Comments Below

Related Post

GyanPanti Team

पुनीत राठौर, www.gyanpanti.com वेबसाइट के एडमिन हैं और यह Ad Agency में बतौर आर्ट डायरेक्टर कार्यरत हैं. इन्हें नयी-नयी जानकारी हासिल करने का शौक हैं और उसी जानकारी को आपके पास पहुचाने के लिए ही है ब्लॉग बनाया गया हैं. आप हमारी पोस्ट को शेयर कर इन जानकारियों को बाकी लोगो तक पहुचाने में हमारी सहायता कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close