जानिये रूस के 10 सबसे घातक हतियारो के बारे में

Share

10 Powerful weapons of russia, hindi

loading...

जानिये रूस के 10 सबसे घातक हतियारो के बारे में – 10 Powerful weapons of russia, hindi : शीत युद्ध के बाद से रूस को सैन्य रूप से कमजोर माना जाने लगा। लेकिन सीरिया के संघर्ष ने साफ कर दिया है कि रूस सैन्य रूप से बहुत ताकतवर है। रूस के पास ऐसे कई हथियार हैं जो मॉस्को को फिर से सुपरपावर बना सकते हैं। आइये जानते है रूस के इन सबसे खतरनाक हथियारों के बारे में

 

1. टी-14 टैंक

यह पांचवीं पीढ़ी का टैंक है। रूस ने इसे 2015 में लॉन्च किया। इस टैंक को रोबोटिक कॉम्बैट व्हीकल में भी बदला जा सकता है। हाल ही में रूस ने इस पर 152 एमएम की तोप लगाने का एलान किया है। रूसी उपप्रधानमंत्री दिमित्रि रोगोजिन के मुताबिक, यह तोप एक मीटर मोटी स्टील की चादर को भेद सकती है।

 

2. युद्धपोत प्योत्र वेलिकी

अटलांटिक महासागर में रूस के उत्तरी बेड़े का यह सबसे घातक युद्धपोत है। परमाणु ऊर्जा से चलने वाला यह युद्धपोत किरोव क्लास युद्धपोतों का हिस्सा है। नाटो इसे विमानवाही पोतों का हत्यारा. कहता है। यह बैलेस्टिक मिसाइल को भी नष्ट कर सकता है।

 

3. सुखोई टी-50

रूस का यह लड़ाकू विमान अमेरिका के हर तरह के लड़ाकू विमानों पर भारी पड़ता है। 2010 में पहली उड़ान के बाद रूस और भारत ने इसे साथ बनाने का फैसला किया। रणनीतिक साझीदारी के तौर पर रूस और भारत 2017 से इसे बड़े पैमाने पर बनाएंगे। लेकिन इस योजना पर वित्तीय मतभेद भारी पड़ रहे हैं। हालांकि भारत में नई सरकार बनने के बाद इस परियोजना में खासी तेजी आई है

 

4. एस-400 मिसाइल

रफ्तार 17,000 किलोमीटर प्रति घंटा और 400 किलोमीटर के दायरे में किसी भी लक्ष्य को भेदने की क्षमता के चलते पायलट इससे घबराते हैं। सीरिया के उडारान खामेमिम बेस में जब रूस ने इन मिसाइलों को तैनात किया तो अमेरिका को अपने लड़ाकू विमान वहां से हटाने पर मजबूर होना पड़ा। अब रूस एस-400 को और बेहतर कर रहा है।

 

5. सुखोई एसयू-35

रूस का यह लड़ाकू विमान अमेरिका के एफ-16 पर भारी पड़ता है। इसका मुकाबला करने के लिए अमेरिका ने एफ-35 बनाया, लेकिन हाल ही में अमेरिकी रक्षा मंत्रालय पेंटागन के मुताबिक एफ-35 भी सुखोई से कमतर है। सुखोई एसयू-35 की तेज रफ्तार और जबरदस्त चपलता को टक्कर देना बहुत मुश्किल है।

कृपया अगले पेज पर क्लिक करे–>>

loading...

Comments

Comments Below

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close